सार्वजनिक शौचालय, मूत्रालय और सफाई स्थापन.- वे सब सार्वजनिक शौचालय और मूत्रालय, जो बोर्ड द्वारा व्यवस्थित या अनुरक्षित किए जाते हैं, इस प्रकार निर्मित किए जाएंगे कि उनमें पुरूष और महिलाओं के लिए पृथक कक्ष हों और इस प्रकार निर्मित कक्ष निःशक्त व्यक्तियों के लिए पहुँच योग्य होंगे तथा उनमे उनके लिए कोई बाधा नहीं होगी तथा उनमें सब आवश्यक सफाई साधन लगे होंगे और वे नियमित रूप से साफ किए जाएंगे और उचित हालत में रखे जाएंगे।

कूड़ा करकट आदि इकट्ठा करने तथा उसे जमा करने का अधिभोगी का कर्तव्य.-

किसी भवन या भूमि के अधिभोगी का यह कर्तव्य होगा कि वह-
भवन या भूमि की झाड़-बुहार के लिए पर्याप्त इन्तजाम करें,
ऐसे भवन या भूमि से गंदगी, कूड़ा-करकट और अन्य दुर्गन्धयुक्त पदार्थों को उसमें एकत्रित करने के लिए ऐसे प्रकार के पात्रों का और ऐसी रीति से उपबन्ध करे जो मुख्य कार्यपालक अधिकारी विहित करे और ऐसे पात्रों को अच्छी हालत में रखे तथा उनकी मरम्मत करवाए;
धारा 135 की उपधारा (1) के अधीन सभी गन्दगी, कचरे और अन्य दुर्गन्धयुक्त पदार्थो को पात्रों में एकत्रित करवाए और हटवाए तथा उपबन्ध कराए गए या नियत सार्वजनिक पात्रों, डिब्बों या स्थानों में जमा करवाए।
इस धारा और धारा 134 के प्रयोजनों के लिए ’ झाड़-बुहारू ’ से संडास, शौचालय, मूत्रालय, प्रणाल, चहबच्चा या ऐसे पदार्थों के लिए अन्य सामान्य पात्र से गंदगी या कूड़े या अन्य दुर्गन्धयुक्त पदार्थ का हटाना अभिप्रेत है।

प्राइवेट सफाई का इंतजाम अपने हाथ में रखने की बोर्ड की शक्ति.-

किसी भवन या भूमि के अधिभोगी के आवेदन पर या उसकी सहमति से अथवा जहाँ कि किसी भवन या भूमि का अधिभोगी इस धारा में निर्दिश्ट बातों के लिए प्रबन्ध मुख्य कार्यपालक अधिकारी को समाधानप्रद रूप में करने में असफल रहता है, वहाँ ऐसी सहमति के बिना तथा अधिभोगी को लिखित सूचना देने के पश्चात् बोर्ड छावनी में के किसी भवन के अन्दर या भूमि की झाड़-बुहारू सकेगा जो मुख्य कार्यपालक अधिकारी इस निमित्त विनिर्दिष्ट करें।
जहाँ कि मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने इस धारा में निर्दिष्ट कर्तव्यों को अपने हाथ में लिया है वहाँ ऐसे कर्तव्यों के पालन में हटाई गई सभी वस्तुएँ आदि बोर्ड की सम्पत्ति होंगी।
शौचालयों आदि का उपबन्ध.- मुख्य कार्यपालक अधिकारी छावनी में के किसी भवन या भूमि के स्वामी या पट्टेदार से लिखित सूचना द्वारा यह अपेक्षा कर सकेगा कि वह शौचालय, मूत्रालय, चहबच्चा, धूलिभाण्ड या गन्दगी, मल या कचरे के लिए अन्य पात्र का अथवा किसी अतिरिक्त शौचालय, मूत्रालय, चहबच्चे या पूर्वोक्त जैसे अन्य पात्र का ऐसी रीति से जो सूचना में विनिर्दिष्ट हो उपबन्ध करे जिसकी बाबत् उसकी राय में भवन या भूमि के लिए उसका उपबन्ध किया जाना चाहिए।
कारखानों आदि में स्वच्छता.- प्रत्येक व्यक्ति, जो छावनी में चाहे सरकार के निमित्त या अन्यथा दस से अधिक कर्मकार या श्रमिकों को नियोजित करता है, तथा प्रत्येक ऐसा व्यक्ति, जो छावनी में बाजार, स्कूल, नाट्यशाला या लोक समागम के अन्य स्थान का प्रबन्ध करता है या उस पर नियंत्रण रखता है, उस तथ्य की सूचना मुख्य कार्यपालक अधिकारी को देगा तथा उनमें इतने शौचालय और मूत्रालयों का उपबन्ध करेगा तथा इतने झाडू कशो को नियोजित करेगा जितने कि मुख्य कार्यपालक अधिकारी ठीक समझते है तथा शौचालयों और मूत्रालयों को साफ-सुथरा और समुचित दशा में रखवाएगा:
परन्तु इस धारा की कोई बात उस कारखाने की दशा में लागू न होगी जिसे कारखाना अधिनियम, 1948 (1948 का 63) लागू है।

छावनी परिषद द्वारा निम्नलिखित सफाई सेवाऐं प्रदत्त कि जा रही है।

दैनिक तौर पर दो समय शहर की सफाई कराई जा रही है।
सेगरिगेटेड कचरे को सेगरिगेटेड डोर टू डोर कचरा वाहन में ट्रेनचिंग ग्राउँड तक निष्पादन किया जा रहा है,
नियमित रूप से कीटनाशक एवं डेंगू, मलेरिया की दवाईयों का शहर में छिडकाव किया जाना।
सार्वजनिक टायलेट को नियमित रूप से प्रेशर पंप से धुलवाया जाना।
सेप्टिक टेंक खाली करवाने संबंधी सेवा प्रदान करना।
मोबाईल टायलेट्स का समारोह एवं जरूरत हेतु निष्पादन करना।

स्वच्छता विभाग और विवरण

सेनेटरी अधीक्षक :- 1
सेनेटरी इंस्पेक्टर :- 1
स्वच्छता जमादार :- 7
सफाई कर्मचारी :- 121
समूह शौचालय:- 54
कचरा संग्रह :- 24

संपर्क अधिकारी :         मनीष अग्रवाल
संपर्क नंबर:                         9977113729